नरेंद्र मोदी के जनभावनाओं के अनुरूप किये गए कार्यो के बदौलत खोते जनाधार से बौखला कर अनर्गल प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे कॉंग्रेस नेता-आलोक सिंह

Share

चितरंजन कुमार:-
कल पूरा देश आपातकाल को काला दिवस के रूप में मना रही थी,तो वही कांग्रेस के एक बड़े नेता औरंगाबाद में प्रेस वार्ता कर देश ही नही दुनिया के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता नरेंद्र मोदी के जनभावनाओं के अनुरूप किये गए कार्यो के बदौलत खोते जनाधार से बौखला कर अनर्गल प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे।औरंगाबाद के राजनीतिक घरानों के उत्तराधिकारी होने और नैतिक आदर्शो को स्थापित करने के लिये उन्हें देश का कलंक आपातकाल को लेकर कांग्रेस नेतृत्व को भी आईना दिखलाना चाहिये था।युक्त आरोप लगाते हुए भाजपा जिला मंत्री सभापति प्रतिनिधि बिहार विधान परिषद सदस्य आलोक सिंह ने कहा कि उन्हें यह शायद नही पच रहा था कि नरेंद्र मोदी सरकार लगातार अपने वादों को पूरा करने में सजग है,मुस्लिम महिलाओं को सम्मान और स्वाभिमान से जीने के लिये तीन तलाक को समाप्त कर एक नई दिशा प्रदान किया है,देश मे एक राष्ट्र एक विधान एक निशान के संकल्प को पूरा करते हुये काश्मीर से धारा 370 को समाप्त किया जाना , देश मे दशको से चली आ रही घुसपैठियों के पहचान के लिये CAA / NRC पर तेजी से कार्य किया जाना , देश के अस्मिता और स्वाभिमान का प्रतीक राममंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करना , शिक्षा के क्षेत्र में वर्षो से घिसीपिटी लचर व्यवस्था को बदलते हुये नयी शिक्षा नीति को लागू कर छात्र नौजवानों को बेहतर भविष्य बनाने और उन सबका कौशल विकास से जोड़ कर संसाधन का सदुपयोग करना , स्वास्थ्य के क्षेत्र में देश मे उल्लेखनीय परिवर्तन , राष्ट्रीय राजमार्ग सहित ग्रामीण पथों की उपलब्धता अब टोलों बसावटों तक सुनिश्चित कराना , बिजली की उपलब्धता सुदूर ग्रामीण क्षेत्र के झोपड़ी तक ही नही बल्कि खेत खलिहान तक पहुंचाना , किसानों की बेहतरी के लिये उन्नत बीज , उवर्रक , के साथ ही जैविक खेती को बढ़ावा देते हुये प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि लागू कर पहली बार किसान की चिंता करने वाली सरकार बनी है । औरंगाबाद को ही कृषि के रीढ़ के रूप में जनमानस के पटल पर स्थापित उत्तर कोयल परियोजना जिसे नेता जी के प्रेस वार्ता के दौरान महान अर्थशास्त्री बताया गया , उनके कार्यकाल में करोड़ो खर्च होने के बाद भी परियोजना को बंद कर दिया गया था , ऐसे अनर्थ शास्त्री मनमोहन सिंह के गलत नीतियों के कारण उत्तर कोयल परियोजना के ऊपर लगे अव्यवहारिक कुंडी को खोलते हुए औरंगाबाद ही नही बल्कि मगध के लाइफ लाइन बन चुके इस सिंचाई परियोजना के अधूरे कार्यो को पूर्ण कराने के लिये नरेंद्र मोदी की सरकार ने लगभग 1622 करोड़ रुपया स्वीकृत कर किसानों के हितों की रक्षा का संकल्प लिया है । 2008 – 09 तक मजबूत अर्थव्यवस्था का वास्तविकता बताना चाहिये था कैसे उन दिनों कर्ज लेकर आम लोगो को प्रलोभन देने वाली सरकार बनी , कैसे ऑयल बांड जारी कर देश को विनाश के गर्त में ढकेलने की चेष्टा किया गया था ? कैसे कर्ज माफी के नाम पर सत्ता हासिल कर आम लोगो के साथ धोखा दिया था ? यदि भारत सरकार द्वारा नोट बंदी नही किया जाता तो नकली नोटों के कारोबारी और कालाधन के खेल में माहिर कांग्रेस की अवैध पूंजी का स्रोत का पता नही चलता । नोट बन्दी को मोदी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था को व्यवस्थित रखने के लिये राष्ट्रहित में लागू किया था जिसे कांग्रेस जैसे विदेशी मानसिकता से पोषित दल को पच नही रहा । यह नरेंद्र मोदी की सरकार की ही उपलब्धि है कि जिसे उद्योगपति को निजी हित में बिना किसी गारंटी के बैंकों का पैसा अंधाधुंध दिया वैसे नीरव मोदी , बिजय माल्या , मेहुल चौकसी जैसे कांग्रेस पोषित फ्रॉड की सम्पति को जब्त करते हुये कार्यवायी किया जा रहा।देश मे बेरोजगारी को बढ़ाने वाली दल जिसकी नीतियों के कारण युवा और छात्र बेरोजगारी का दंश झेलने को अभिशप्त रहे उनको अग्निपथ योजना समझ नही आयेगी । और आ भी जाये तो उसे नासमझी का ढोंग करते हुये नवजवानों छात्रों को गुमराह करने का प्रयत्न करते रहेंगे । नेशनल हेराल्ड केश में बेल पर चल रहे कांग्रेस के विदेशी सोंच की नेता और युवराज जिनकी नीतियां देश के संसाधन का दोहन कर घोटालो का रिकार्ड बनाया है उसे आज जनता ने अपना निर्णय सुनाया है , लेकिन राष्ट्रहित में गूंगी बहरी कांग्रेस अब निर्लज्ज भी बन गयी है जिसे देश की जनता स्वीकारने के लिये तैयार नही है।


Share