home औरंगाबाद जिला

जिला पदाधिकारी सौरभ जोरवाल एवं कृषि पदाधिकारी ने कृषि विज्ञान केंद्र सिरिस का किया भ्रमण।

Share

चितरंजन कुमार:-

औरंगाबाद जिला पदाधिकारी सौरभ जोरवाल एवं जिला कृषि पदाधिकारी श्री रणवीर सिंह ने कृषि विज्ञान केन्द्र, सिरिस औरंगाबाद मे भ्रमण किया।केंद्र के वरीय वैज्ञानिक एवं प्रधान डॉ नित्यानन्द ने केंद्र मे आए हुए जिला पदाधिकारी एवं जिला कृषि पदाधिकारी का स्वागत किया एवं कृषि विज्ञान केन्द्र मे चल रहे विभिन्न गतिविधियों एवं परियोजनाओ के बारे मे विधिवत जानकारी देते हुए जिलाधिकारी एवं जिला कृषि पदाधिकारी को कृषि विज्ञान केन्द्र मे जलवायु अनुकूल कृषि कार्यक्रम के अन्तर्गत 10 प्रकार के विभिन्न तकनीकों से गेंहू, मसूर, चना, राई आदि विभिन्न प्रजातियों का अवलोकन किया एवं फसल अवशेष प्रबंधन मे प्रयोग होने वाले मशीनों जैसे स्ट्रा बेलर, हैप्पी सीडर, राइस व्हीट ट्रांसप्लांटर आदि के विशेष गुण के बारे मे जानकारी दी।इसके अतिरिक्त जिला पदाधिकारी ने केंद्र मे स्थापित मौसम यूनिट, वर्मीकम्पोस्ट, औषधीय एवं सुगंधित पौध वाटिका, बकरी पालन यूनिट, कड़कनाथ मुर्गी उत्पादन यूनिट, प्रशासनिक भवन का भ्रमण किया।गौरतलब हो कि जलवायु अनुकूल खेती कार्यक्रम के अन्तर्गत बायोचार यूनिट जिससे फसल अवशेष को ऑक्सीजन की अनुपस्थिति मे जलाकर उच्च कोटी के बायोचार उत्पाद का उत्पादन किया जा सकता है। धान के 1 टन पराली से 6.2 किलोग्राम नाइट्रोजन, 1.1 किलोग्राम फॉसफोरस, 19 किलोग्राम पोटाश, 1.35 किलोग्राम सल्फर पाया जाता है। बायोचार विधि से 1 टन बायोचार उत्पाद से 5-6 किलोग्राम नाइट्रोजन, 1.6-2.2 किलोग्राम फॉसफोरस, 28-32 किलोग्राम पोटाश, के साथ साथ सूक्ष्म पोषक तत्व भी प्राप्त होता जिससे मृदा स्वास्थ मे सुधार होता है जिससे फसल उत्पादकता मे वृद्धि होती है।उन्होंने कहा की औरंगाबाद जिला के कृषक द्वारा अपनी लगन, मेहनत कर्मठता एवं कृषि विज्ञान केन्द्र से तकनीकी ज्ञान प्राप्त कर अपनी आमदनी को दसगुना तक बढ़ाया गया है l
इसके अतिरिक्त केन्द्र मे उधमिता विकास हेतु 5 दिवसीय गाय पालन एवं केंचुआ खाद उत्पादन विषय पर आयोजित प्रशिक्षण का उद्घाटन जिलाधिकारी ने किया। कृषकों को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने स्वरोजगार से स्वावलंबन की ओर अग्रसर होने का सलाह दिया। साथ ही चना समूह प्रत्यक्षण के लिए चयनित किसानों को बीज एवं बीजोपचार समाग्री का वितरण जिलाधिकारी महोदय ने किया।
साथ ही जिलाधिकारी ने कहा की कृषि विज्ञान केन्द्र, सिरिस के द्वारा किसानों की आमदनी दोगुनी करने हेतु विस्तृत तकनीकी जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है जिससे किसानों के उत्पादकता मे बृद्धि हो रहा है । किन्तु जब तक कृषक जागरूक नही होंगे तब तक आमदनी दोगुनी करने का लक्ष्य पूरा नही हो सकता है। इसलिए आप कृषि विज्ञान केन्द्र, सिरिस, औरंगाबाद से तकनीकी ज्ञान प्राप्त कर उसे धरातल पर उतारे तभी कृषक अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकेंगे।जिला पदाधिकारी द्वारा केन्द्र मे आए हुवे RAWE छात्रों से भी तकनीकी जानकारी ली गई। जिला पदाधिकारी ने कृषि विज्ञान केन्द्र, के द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना किया। इस मौके पर केन्द्र के सभी वैज्ञानिक एवं कर्मचारी उपस्थित रहे ।


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *